विभिन्न क्षेत्रों में विश्व के सर्वोच्च नोबेल पुरस्कारों 2018 की हुई घोषणा

0
42

नोबेल फाउंडेशन की तरफ से स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में  हर साल विभिन्न क्षेत्रों ( शांति, साहित्य, भौतिकी, रसायन, चिकित्सा विज्ञान और अर्थशास्त्र ) में अहम योगदान  देने के लिए  कुछ चुनिंदा  व्यक्तियों को नोबेल फाउडेशन विश्व के सर्वोच्च पुरस्कार से पुरस्कृत करती है.

किसे मिला रासायन नोबेल पुरस्कार

इसी कड़ी में इस बार साल 2018 के रसायन विज्ञान के नोबेल पुरस्कार के लिए तीन वैज्ञानिकों को चुना गया है, जिनमें अमेरिकी वैज्ञानिक फ्रांसिस हेमिल्टन अरनॉल्ड , जॉर्ज पी स्मिथ और सर ग्रेगरी विंटर शामिल हैं.  बता दें कि रसायन विज्ञान के क्षेत्र में अमेरिकी वैज्ञानिक फ्रांसिस हेमिल्टन अरनॉल्ड नोबेल पाने वाली वह पांचवीं महिला हैं.

रॉयल स्वीडिश अकैडमी ऑफ साइंसेज ने कहा कि इस साल जिन तीन हस्तियों को रासायन के क्षेत्र में नोबेल प्राइज के लिए चुना गया है उन्होंने एंजाइम्स और ऐंटीबॉडीज को विकसित करने के लिए क्रमिक विकास की शक्ति का इस्तेमाल किया है. जिससे नए फार्मास्युटिकल और बायोफ्युल का निर्माण हुआ है.

किसे मिला भौतिकी नोबेल पुरस्कार

वहीं साल 2018 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार तीन लोगों ऑर्थर अश्किन, गेरार्ड मौरू और डोना स्ट्रिक्लैंड को संयुक्त रुप से दिया जा रहा है. भौतिकी क्षेत्र में इन तीनों वैज्ञानिकों को लेजर भौतिकी क्षेत्र में किए गए आविष्कारों के लिए पुरस्कार से नवाजा गया है. अश्किन को पुरस्कार राशि का आधा हिस्सा, मोउरो और स्ट्रिकलैंड को साझे रूप से पुरस्कार राशि का आधा हिस्सा मिलेगा. इन वैज्ञानिकों के आविष्कार ने उद्योग और मेडिसिन के क्षेत्र में एडवांस्ड मशीन के निर्माण का रास्ता प्रशस्त किया है.

क्यों हुआ इस बार सहित्य नोबेल पुरस्कार को ना

वहीं इस बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिए जाने का फैसला किया गया है. पिछले 70 साल में पहली बार ऐसा है कि साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जाएगा. इस निर्णय के कारणों का पता लगाने पर जानकारी मिली की स्वीडन में सांस्कृतिक गतिविधियों का बड़ा चेहरा माने जाने वाले फ्रांसीसी नागरिक ज्यां-क्लाउड अर्नोल्ट यौन आरोपों और वित्तीय अपराध के आरोपों से घिरे हैं. इससे अकादमी की छवि को बेहद नुकसान पहुंचा है. इसलिए अकादमी ने इस साल साहित्य का नोबेल नहीं देने का फैसला किया है.